Aadmi Jo Kahta Hai
कभी सोचता हूँ, कि मैं चुप रहूँ
कभी सोचता हूँ, कि मैं कुछ कहूँ
आदमी जो सुनता है, आदमी जो कहता है
ज़िंदगी भर वो सदायें पीछा करती हैं
आदमी जो देता है, आदमी जो करता है
रास्ते मे वो दुआएं पीछा करती हैं
कोई भी हो हर ख़्वाब तो अच्छा नहीं होता
बहुत ज्यादा प्यार भी अच्छा नहीं होता है
कभी दामन छुड़ाना हो, तो मुश्किल हो
प्यार के रस्ते छुटे तो, प्यार के रिश्ते टूटे तो
ज़िंदगी भर फिर वफ़ाएं पीछा करती हैं   ...
कभी कभी मन धूप के कारण तरसता है
कभी कभी फिर दिल में, सावन बरसता है
प्यास कभी बुझती नहीं, इक बूँद भी मिलती नहीं
और कभी रिम झिम घटाएं पीछा करती हैं   ...
Kabhie sochta hoon, ki main chup rahoon
Kabhie sochta hoon, ki main kuchh kahoon
Aadmi jo sunta hai, aadmi jo kahta hai
Zindagi bhar voh sadaayein peechha karti hain
Aadmi jo deta hai, aadmi jo karta hai
Raaste mein voh दुआएं peechha karti hain
Koi bhi ho har khwaab to achchha naheen hota
Bahut zyada pyar bhi achchha naheen hota hai
Kabhie daaman chhudana ho, to mushkil ho
Pyar ke raste chhute to, pyar ke rishte toote to
Zindagi bhar phir vafayein peechha karti hain   ...
Kabhie kabhie mann dhoop ke kaaran tarasta hai
Kabhie kabhie phir dil mein, saawan barasta hai
Pyaas kabhie bujhti naheen, ik boond bhi milti naheen
Aur kabhie rim jhim ghata-ein peechha karti hain   ...