Aap Ke Anurodh Pe
आप के अनुरोध पर, मैं ये गीत सुनाता हूँ
अपने दिल की बातों से, आप का दिल बहलाता हूँ
आप के अनुरोध पे ...

मत पूछो औरों के दुःख में, ये प्रेम कवि क्यों रोता है
बस चोट किसी को लगती है और दर्द किसी को होता है
दूर कहीं कोइ दर्पण टूटे, तड़प के मैं रह जाता हूँ
आप के अनुरोध पे ...

तारीफ़ मैं जिसकी करता हूँ, क्या रूप है वो, क्या खुशबू है
कुछ बात नहीं ऐसी कोई, ये एक सुरों का जादू है
कोयल की एक कूक से सबके मन में हूक़ उठाता हूँ
आप के अनुरोध पे ...

मैं पहने फिरता हूँ जो, वो ज़ंजीरें कैसे बनती हैं
ये भेद बता दूँ गीतों में तसवीरें कैसे बनती हैं
सुन्दर होंठों की लाली से, मैं रंग रूप चुराता हूँ
आप के अनुरोध पे मैन ये गीत सुनाता हूँ   ...
Aap ke anurodh par, main yeh geet sunata hoon
Apne dil ki baton se, aap ka dil bahlata hoon
Aap ke anurodh pe ...

Mat poochho auron ke dukh mein, yeh premi kavi kyon rota hai
Bas chot kisi ko lagti hai aur dard kisi ko hota hai
Door kaheen koi darpan toote, tadap ke main rah jata hoon
Aap ke anurodh pe ...

Tareef main jiski karta hoon, kya roop hai voh, kya khushboo hai
Kuchh baat naheen aisi koi, yeh ek suron ka jaadu hai
Koyal ki ek kook se sabke mann mein hook uthaata hoon
Aap ke anurodh pe ...

Main pahne firta hoon jo, voh zanzeerein kaise banti hain
Yeh bhed bataa doon geeton mein tasveerein kaise banti hain
Sundar hothon ki lali se, main rang roop chuarata hoon
Aap ke anurodh pe main yeh geet sunata hoon   ...