Agar Sun Le To Ek Nagma
अगर सुन ले तो इक नगमा हुज़ूर-ए-यार लाया हूँ
वो कली चटकी कि दिल टूटा पर इक झंकार लाया हूँ
अगर सुन ले तू एक नग़मा ...

मुझे मालूम है इतना कि मैं क्या मेरी क़ीमत क्या
जो सब कुछ था जो कुछ भी नहीं ऐसा प्यार लाया हूँ
अगर सुन ले तू इक नग़मा ...

अचानक आ गिरी बिजली तो फिर सूरत यही निकली
उजड़ गया दिल तो अब ज़ख़्मों का गुलज़ार लाया हूँ
अगर सुन ले तू इक नग़मा ...

अजब हूँ मैं भी दीवाना अजब है मेरा नज़राना
के उनके लिए अपनी वफ़ा का टूटा हार लाया हूँ
अगर सुन ले तू इक नग़मा ...
Agar sun le to ik nagma huzoor-e-yaar laya hoon
Voh kali chatki ki dil toota par ik jhankar laya hoon
Agar sun le tu ek nagma ...

Mujhe maloom hai itna ki main kya meri keemat kya
Jo sab kuchh tha jo kuchh bhi naheen aisa pyar laya hoon
Agar sun le tu ik nagma ...

Achanak aa giri bijli to phir surat yahi nikli
Ujad gaya dil to ab jakhmon ka gulzaar laya hoon
Agar sun le tu ik nagma ...

Ajab hoon main bhi deewana ajab hai mera nazrana
Ke unke liye apni wafa ka toota haar laya hoon
Agar sun le tu ik nagma ...