Aisa Kabhie Hua Naheen
सुनीता सुनीता सुनीता
ऐसा कभी हुआ नहीं जो भी हुआ खूब हुआ
देखते ही तुझे होश गुम हुए होश आया तो दिल मेरा दिल न रहा
ऐसा कभी हुआ नहीं जो भी हुआ खूब हुआ
रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं सावन की घटाओं जैसी
पल्कें हैं तेरी घने पेड़ की छाँव जैसी
भोलापन और हँसी आफ़्रीन आफ़्रीन
ऐसा कभी हुआ नहीं   ...
झील सी आँखों में मस्ती के जाम लहरायें
जब होंठ खुले तेरे सरगम बजे, महके फ़िज़ाएं
हर अदा दिल नशीं आफ़्रीन आफ़्रीन
ऐसा कभी हुआ नहीं   ...
पतली सी गरदन में एक बल है सुराही जैसा
अंदाज़ मटकने का देखा न किसी ने ऐसा
गुलबदन नाज़नीं आफ़्रीन आफ़्रीन
ऐसा कभी हुआ नहीं   ...
Sunita sunita sunita
Aisa kabhie hua naheen jo bhi hua khoob hua
Dekhte hee tujhe hosh gum huye hosh aaya to dil mera dil na rahaa
Aisa kabhie hua naheen jo bhi hua khoob hua
Reshmi zulfein hain saawan ki ghataaon jaisi
Palkein hain teri ghane ped ki chaanv jaisi
Bholapan aur hansi aafreen aafreen
Aisa kabhie hua naheen   ...
Jheel si aankhon mein masti ke jaam lahraayein
Jab hoth khule tere sargam baje, mahke fizayein
Har adaa dil nasheen aafreen aafreen
Aisa kabhie hua naheen   ...
Patli si gardan mein ek bal hai surahi jaisa
Andaz matakne ka dekha na kisi ne aisa
Gulbadan naazneen aafreen aafreen
Aisa kabhie hua naheen   ...