Apne Jeevan Ki Uljhan Ko (Part 2)
अपने जीवन की उलझन को कैसे मैं सुलझाऊँ -२
अपनों ने जो दर्द दिए हैं कैसे मैं बतलाऊँ
प्यार के वादे हो गए झूठे ( वफ़ा के बंधन टूटे ) -२
बनके जीवन-साथी कोई ( चैन मेरा क्यों लूटे ) -२
ऐसे जीवन-साथी से मैं कैसे साथ निभाऊँ
अपने जीवन की ...
कैसे-कैसे भेद छुपाएँ ( हाथों की रेखाएँ ) -२
कोई ना जाने इस जीवन को ( ये किस ओर ले जाएँ ) -२
पढ़ ना पाऊँ लेख विधि का पल-पल मैं घबराऊँ
अपने जीवन की ...
दिल में ऐसा दर्द छुपा है ( मुझसे सहा ना जाए ) -२
कहना तो चाहूँ अपनों से मैं ( फिर भी कहा ना जाए ) -२
??
अपने जीवन की ...
Apne jeevan ki uljhan ko kaise main suljhaun -2
Apno ne jo dard diye hain kaise main batlaun
Pyar ke vaade ho gaye jhoothe ( wafa ke bandhan toote ) -2
Banke jeevan-sathi koi ( chain mera kyon loote ) -2
Aise jeevan-sathi se main kaise sath nibhaaun
Apne jeevan ki ...
Kaise-kaise bhed chhupayein ( hathon ki dekhayein ) -2
Koi naa jaane is jeevan ko ( yeh kis or le jaayein ) -2
Padh naa paaun lekh vidhi ka pal-pal main ghabraun
Apne jeevan ki ...
Dil mein aisa dard chhupa hai ( mujhse sahaa naa jaaye ) -2
Kehna to chaahoon apno se main ( phir bhi kaha naa jaaye ) -2
??
Apne jeevan ki ...