Bin Phere Hum Tere
सजी नहीं बारात तो क्या 
आई ना मिलन की रात तो क्या 
ब्याह किया तेरी यादों से 
गठबंधन तेरे वादों से 
बिन फेरे हम तेरे (३) 
तन के रिश्ते टूट भी जाये 
टूटे ना मन के बन्धन 
जिसने दिया मुझको अपनापन 
उसीका है ये जीवन 
बांध लिया मन का बंधन 
जीवन है तुझ पर अर्पण 
सजी ... 
तूने अपना माँ लिया है 
हम थे कहाँ इस काबिल 
जो एहसान किया जान देकर 
उसको चुकाना मुश्किल 
देह बनी ना दुल्हन तो क्या 
पहने नहीं कँगन तो क्या 
सजी ... 
जिसका हमें अधिकार नहीं था 
उसका भी बलिदान दिया 
भले बुरे को हम क्या जाने 
जो भी किया तेरे लिये किया 
लाख रहें हम शरमिंदा 
मगर रहे ममता ज़िन्दा 
सजी ... 
आँच ना आये नाम पे तेरे 
खाक भले ये जीवन हो 
अपने जहान में आग लगा दें 
तेरा जहान जो रौशन हो 
तेरे लिये दिल तोड़ लें हम 
दिल तो क्या जग छोड़ दें हम 
सजी ...
Saji naheen baaraat to kya 
Aaee naa milan ki raaton to kya 
Byaah kiya teri yaadon se 
Gathbandhan tere vaadon se 
Bin fere hum tere (3) 
Tan ke rishte toot bhi jaaye 
Toote naa mann ke bandhan 
Jisne diya mujhko apnapan 
Useeka hai yeh jeevan 
Baandh liya mann ka bandhan 
Jeevan hai tujh par arpan 
Saji ... 
Tune apna maa liya hai 
Hum they kahaan is kaabil 
Jo ehsaan kiya jaane dekar 
Usko chukana mushkil 
Deh bani naa dulhan to kya 
Pahne naheen kangan to kya 
Saji ... 
Jiska humein adhikaar naheen tha 
Uska bhi balidaan diya 
Bhale bure ko hum kya jaane 
Jo bhi kiya tere liye kiya 
Lakh rahein hum sharminda 
Magar rahe mamta zinda 
Saji ... 
Aanch naa aaye naam pe tere 
Khaak bhale yeh jeevan ho 
Apne jahaan mein aag lagaa dein 
Tera jahaan jo raushan ho 
Tere liye dil tod lein hum 
Dil to kya jag chhod dein hum 
Saji ...