Chala Jata Hoon
		     
चला जाता हूँ, किसी की धुन में
धड़कते दिल के, तराने लिये
मिलन की मस्ती, भरी आँखों में
हज़ारों सपने, सुहाने लिये, चला जाता हूँ... 
ये मस्ती के, नज़ारें हैं, तो ऐसे में
सम्भलना कैसा मेरी क़सम
तू लहराती, डगरिया हो, तो फिर क्यूँ ना
चलूँ मैं बहका बहका रे
मेरे जीवन में, ये शाम आई है
मुहब्बत वाले, ज़माने लिये, चला जाता हूँ...
वो आलम भी, अजब होगा, वो जब मेरे
करीब आएगी मेरी क़सम
कभी बइयाँ छुड़ा लेगी, कभी हँसके
गले से लग जाएगी हाय
मेरी बाहों में, मचल जाएगी
वो सच्चे झूठे बहाने लिये, चला जाता हूँ...
बहारों में, नज़ारों में, नज़र डालूँ
तो ऐसा लागे मेरी क़सम
वो नैनों में, भरे काजल, घूँघट खोले
खडी हैं मेरे आगे रे
शरम से बोझल झुकी पलकों में
जवाँ रातों के फ़साने लिये, चला जाता हूँ...



		     
Chala jata hoon, kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke, tarane liye
Milan ki masti, bhari aankhon mein
Hazaron sapne, suhane liye, chala jata hoon... 
Yeh masti ke, nazaare hain, to aise mein
Sambhalna kaisa meri kasam
Tu lahrati, dagariya ho, to phir kyun naa
Chaloon main bahka bahka re
Mere jeevan mein, yeh shaam aaee hai
Mohabbat vaale, zamane liye, chala jata hoon...
Voh aalam bhi, ajab hoga, voh jab mere
Kareeb aayegi meri kasam
Kabhie baiyyan chhuda legi, kabhie hanske
Gale se lag jayegi hai
Meri bahon mein, machal jayegi
Voh sachche jhoothe bahane liye, chala jata hoon...
Baharon mein, nazaron mein, nazar daaloon
To aisa laage meri kasam
Voh naino mein, bhare kajal, ghoonghat khole
Khadi hain mere aage re
Sharam se bojhal jhuki palkon mein
Jawaan raaton ke fasane liye, chala jata hoon...