Chand Raat Tum Ho Sath
कि :	चाँद रात तुम हो साथ क्या करें अजी अब तो दिल मचल-मचल गया
ल :	दिल का ऐतबार क्या क्या करोगे जी पल जो ये बदल गया
कि :	ज़ुल्मी नज़र कैसी निडर दिल चुरा लिया
जाने किस अजब देश में बुला लिया
ल :	ये भी कोई दिल है क्या
जहाँ मौक़ा मिला फिसल-फिसल गया
कि :	चाँद रात तुम हो ...
ल :	सुनिए ज़रा मैने कहा मत सताइए
अपने आप अपनी राह लौट जाइए
कि :	ये वो राहें नहीं जिसपे चल के कोई संभल गया
चाँद रात तुम हो ...
बहके-बहके अब तो सनम बाँह थाम लो
ल :	अपनी नज़र अपनी निग़ाहों से काम लो -२
कि :	आप का क्या गया
फूल सा दिल मेरा कुचल-कुचल गया
कि :	चाँद रात तुम हो ...
Ki :	Chaand raaton tum ho sath kya karein aji ab to dil machal-machal gaya
La :	Dil ka aitbaar kya kya karoge ji pal jo yeh badal gaya
Ki :	Julmi nazar kaisi nidar dil chura liya
Jaane kis ajab desh mein bula liya
La :	Yeh bhi koi dil hai kya
Jahaan mauka mila fisal-fisal gaya
Ki :	Chaand raaton tum ho ...
La :	Suniye zara maine kaha mat sataiyye
Apne aap apni raahein laut jaiyye
Ki :	Yeh voh raahein naheen jispe chal ke koi samhal gaya
Chaand raaton tum ho ...
Bahke-bahke ab to sanam baanh thaam lo
La :	Apni nazar apni nigahon se kaam lo -2
Ki :	Aap ka kya gaya
Phool sa dil mera kuchal-kuchal gaya
Ki :	Chaand raaton tum ho ...