Dil Kya Kare
दिल क्या करे जब किसी से किसी को प्यार हो जाए
जाने कहाँ कब किसी को किसी से प्यार हो जाए
ऊँची-ऊँची दीवारों सी इस दुनिया की रस्में
न कुछ तेरे बस में जुलिए, न कुछ मेरे बस में
(जैसे पर्वत पे घटा झुकती है
जैसे सागर से लहर उठती है
ऐसे किसी चहरे पे निगाह रुकती है)	- २
हो, रोक नहीं सकती नज़रों को, दुनिया भर की रस्में
न कुछ तेरे बस में जुलिए, न कुछ मेरे बस में
दिल क्या करे ...
आ मैं तेरी याद में सब को भुला दूँ
दुनिया को तेरी तसवीर बना दूँ
मेरा बस चले तो दिल चीर के दिखा दूँ
हो, दौड़ रहा है साथ लहू के प्यार तेरे नस-नस में
न कुछ तेरे बस में जुलिए, न कुछ मेरे बस में
दिल क्या करे ...
Dil kya kare jab kisi se kisi ko pyar ho jaaye
Jaane kahaan kab kisi ko kisi se pyar ho jaaye
Oonchi-oonchi deewaron si is duniya ki rasmein
Na kuchh tere bas mein juliye, na kuchh mere bas mein
(Jaise parvat pe ghata jhukti hai
Jaise sagar se laher uthti hai
Aise kisi chehre pe nigaah rukti hai)	- 2
Ho, rok naheen sakti nazron ko, duniya bhar ki rasmein
Na kuchh tere bas mein juliye, na kuchh mere bas mein
Dil kya kare ...
Aa main teri yaadon mein sab ko bhula doon
Duniya ko teri tasveer banaa doon
Mera bas chale to dil cheer ke dikha doon
Ho, daud rahaa hai sath lahoo ke pyar tere nas-nas mein
Na kuchh tere bas mein juliye, na kuchh mere bas mein
Dil kya kare ...