Diye Jalte Hain
		     
दिये जलते हैं, फूल खिलते हैं
बड़ी मुश्किल से मगर, दुनिया में लोग मिलते हैं
जब जिस वक़्त किसीका, यार जुदा होता हैं
कुछ ना पूछो यारों दिल का, हाल बुरा होता है
दिल पे यादों के जैसे, तीर चलते हैं
दिये ...
दौलत और जवानी, एक दिन खो जाती है,
सच कहता हूँ, सारी दुनिया 
दुश्मन बन जाती है
उम्र भर दोस्त लेकिन, साथ चलते हैं
दिये ...
इस रँग-धूप पे देखो, हरगिज नाज़ ना करना,
जान भी माँगे, यार तो दे देना, नाराज़ ना करना
रँग उड़ जाते हैं, धूप ढलते हैं
दिये ...



		     
Diye jalte hain, phool khilte hain
Badi mushkil se magar, duniya mein log milte hain
Jab jis waqt kisika, yaar juda hota hain
Kuchh naa poochho yaaron dil ka, haal bura hota hai
Dil pe yaadon ke jaise, teer chalte hain
Diye ...
Daulat aur jawani, ek din kho jati hai,
Sach kahta hoon, saari duniya 
Dushman ban jati hai
Umra bhar dost lekin, sath chalte hain
Diye ...
Is rang-dhoop pe dekho, hargiz naaz naa karna,
Jaane bhi maange, yaar to de dena, naraz naa karna
Rang ud jaate hain, dhoop dhalte hain
Diye ...