Ek Haseena Thi
इक हसीना थी, इक दीवाना था
क्या उमर, क्या समा, क्या ज़माना था   ...
एक दिन वो मिले, रोज़ मिलने लगे
फिर मुहब्बत हुई, बस क़यामत हुई
खो गये तुम कहाँ, सुन के ये दास्तां
लोग हैरान हैं, क्योंकि अन्जान हैं
इश्क़ की वो गली, बात जिसकी चली
उस गली में मेरा आना, जाना था
इक हसीना थी, इक दीवाना था   ...
उस हसीन ने कहा, सुनो जान-ए-वफ़ा
ये फ़लक़ ये ज़मीं, तेरे बिन कुछ नहीं
तुझपे मरती हूँ मैं, प्यार करती हूँ मैं
बात कुछ और थी, वो नज़र चोर थी
उसके दिल में छुपी, चाहत और गर्ज़ी थी
प्यार का, तो फ़क़त, इक बहाना था
इक हसीना थी, इक दीवाना था   ...
बेवफ़ा यार ने, अपने महबूब से
ऐसा धोखा किया
- धोखा, धोखा, धोखा, धोखा -
ऐसा धोखा किया, ज़हर उसको दिया
मर गया, वो जवाँ
अब सुनो दास्तां
जन्म ले कर कहीं, फिर वो पहुंचा वहीं
शक़्ल अन्जान की, अक्ल हैरान की
सामना जब हुआ, फिर वही सब हुआ
उसका ये फ़र्ज़ था, उसपे ये क़र्ज़ था
फ़र्ज़ को, क़र्ज़ अपना, निभाना था
इक हसीना थी, इक दीवाना था   ...
Ik haseena thi, ik deewana tha
Kya umar, kya samaa, kya zamana tha   ...
Ek din voh mile, roz milne lage
Phir mohabbat hui, bas qayamat hui
Kho gaye tum kahaan, sun ke yeh dastaan
Log hairaan hain, क्योंकि anjaan hain
Ishq ki voh gali, baat jiski chali
Us gali mein mera aana, jaana tha
Ik haseena thi, ik deewana tha   ...
Us haseen ne kaha, suno jaane-e-wafa
Yeh falak yeh zameen, tere bin kuchh naheen
Tujhpe marti hoon main, pyar karti hoon main
Baat kuchh aur thi, voh nazar chor thi
Uske dil mein chhupi, chahat aur garzi thi
Pyar ka, to faqat, ik bahaana tha
Ik haseena thi, ik deewana tha   ...
Bewafa yaar ne, apne mehboob se
Aisa dhokha kiya
- Dhokha, dhokha, dhokha, dhokha -
Aisa dhokha kiya, zaher usko diya
Mar gaya, voh jawaan
Ab suno dastaan
Janm le kar kaheen, phir voh pahuncha vaheen
Shakl anjaan ki, अक्ल hairaan ki
Saamna jab hua, phir vahi sab hua
Uska yeh farz tha, uspe yeh karz tha
Farz ko, karz apna, nibhana tha
Ik haseena thi, ik deewana tha   ...