Ghungru Ki Tarah
घुँघरू की तरह बजता ही रहा हूँ मैं
कभी इस पग में कभी उस पग में बँधता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह ...
कभी टूट गया कभी तोड़ा गया
सौ बार मुझे फिर जोड़ा गया
यूँ ही टूट-टूट के, फिर जुट-जुट के
बजता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह ...
मैं करता रहा औरों की कही
मेरे मन की ये बात मन ही में रही
है ये कैसा गिला जिसने जो कहा
करता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह ...
अपनों में रहे या ग़ैरों में
घुँघरू की जगह तो है पैरों में
कभी मन्दिर में कभी महफ़िल में
सजता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह ...
Ghunghroo ki tarah bajta hee rahaa hoon main
Kabhie is pag mein kabhie us pag mein bandhta hee rahaa hoon main
Ghunghroo ki tarah ...
Kabhie toot gaya kabhie toda gaya
Sau bar mujhe phir joda gaya
Yoon hee toot-toot ke, phir jut-jut ke
Bajta hee rahaa hoon main
Ghunghroo ki tarah ...
Main karta rahaa auron ki kahi
Mere mann ki yeh baat mann hee mein rahi
Hai yeh kaisa gilaa jisne jo kaha
Karta hee rahaa hoon main
Ghunghroo ki tarah ...
Apno mein rahe ya gairon mein
Ghunghroo ki jagah to hai pairon mein
Kabhie mandir mein kabhie mehfil mein
Sajta hee rahaa hoon main
Ghunghroo ki tarah ...