Gum Hai Kisi Ke Pyar Mein
किशोर:  गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम
हाय राम, हाय राम
रंधीर:  कुछ लिखा?
रेखा:  हाँ
रंधीर:  क्या लिखा? 
लता:   गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम
हाय राम, हाय राम
रेखा:   अच्छा, आगे क्या लिखूँ?
रंधीर:  आगे? 
किशोर:  सोचा है एक दिन मैं उससे मिलके
कह डालूँ अपने सब हाल दिल के
और कर दूँ जीवन उसके हवाले
फिर छोड़ दे चाहे अपना बना ले
अब तो जैसे भी मेरा हो अंजाम
गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम, 
हाय राम, हाय राम
रंधीर:  लिख लिया?
रेख:  हाँ
रंधीर:  ज़रा पढ़के तो सुनाओ
लता: चाहा है तुमने जिस बावरी को
वो भी सजनवा चाहे तुम्हीं को
नैना उठाए तो प्यार समझो
पलकें झुका दे तो इक़रार समझो
रखती है कब से छुपा छुपा के
रंधीर:  क्या?
लता:  अपने होंठों में पिया तेरा नाम
गुम है किसी के प्यार में, दिल सुबह शाम
पर तुम्हें लिख नहीं पाऊँ, मैं उसका नाम
हाय राम, हाय राम
Kishore:  Gum hai kisi ke pyar mein, dil subah shaam
Par tumhein likh naheen paaun, main uska naam
Hai raam, hai raam
Randheer:  Kuchh likha?
Dekha:  Haan
Randheer:  Kya likha? 
Lata:   Gum hai kisi ke pyar mein, dil subah shaam
Par tumhein likh naheen paaun, main uska naam
Hai raam, hai raam
Dekha:   Achchha, aage kya likhoon?
Randheer:  Aage? 
Kishore:  Socha hai ek din main usmein milke
Kah daaloon apne sab haal dil ke
Aur kar doon jeevan uske hawale
Phir chhod de chaahe apna banaa le
Ab to jaise bhi mera ho anjaam
Gum hai kisi ke pyar mein, dil subah shaam
Par tumhein likh naheen paaun, main uska naam, 
Hai raam, hai raam
Randheer:  Likh liya?
Rekh:  Haan
Randheer:  Zara padgke to sunao
Lata: Chaha hai tumne jis baawri ko
Voh bhi sajanva chaahe तुम्हीं ko
Naina uthaye to pyar samjho
Palkein jhuka de to iqrar samjho
Rakhti hai kab se chhupa chhupa ke
Randheer:  Kya?
Lata:  Apne hothon mein piya tera naam
Gum hai kisi ke pyar mein, dil subah shaam
Par tumhein likh naheen paaun, main uska naam
Hai raam, hai raam