Hum Bewafa Hargiz Na They
हम बेवफ़ा हरगिज़ न थे
पर हम वफ़ा कर ना सके
हमको मिली उसकी सजा
हम जो ख़ता कर ना सके
कितनी अकेली थी वो राहें हम जिनपर
अब तक अकेले चलते रहें
तुझसे बिछड़ के भी ओ बेखबर
तेरे ही ग़म में जलते रहें
तूने किया जो शिकवा
हम वो गिला कर ना सके
तुमने जो देखा सुना सच था मगर
इतना था सच ये किसको पता
जाने तुम्हे मैने कोई धोखा दिया
जाने तुम्हे कोई धोखा हुआ
इस प्यार में सच झूठ का
तुम फ़ैसला कर ना सके
Hum bewafa hargiz na they
Par hum wafa kar naa sake
Humko mili uski sazaa
Hum jo khata kar naa sake
Kitni akeli thi voh raahein hum jinpar
Ab tak akele chalte rahein
Tujhse bichhad ke bhi o bekhabar
Tere hee gham mein jalte rahein
Tune kiya jo shikva
Hum voh gilaa kar naa sake
Tumne jo dekha suna sach tha magar
Itna tha sach yeh kisko pata
Jaane tumhe maine koi dhokha diya
Jaane tumhe koi dhokha hua
Is pyar mein sach jhooth ka
Tum faisla kar naa sake