Jeevan Ke Safar Mein Rahi
जीवन के सफ़र में राही, मिलते हैं बिछड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें, तनहाई में तड़पाने को
जीवन के सफ़र...
ये रूप की दौलत वाले, कब सुनते हैं दिल के नाले
तक़दीर न बस में डाले, इनके किसी दीवाने को
जीवन के सफ़र...
जो इनकी नज़र से खेले, दुःख पाए मुसीबत झेले
फिरते हैं ये सब अलबेले, दिल लेके मुकर जाने को
जीवन के सफ़र...
दिल लेके दगा देते हैं, इक रोग लगा देते हैं
हँस हँस के जला देते हैं, ये हुस्न के परवाने को
जीवन के सफ़र...
अब साथ न गुज़रेंगे हम, लेकिन ये फ़िज़ा रातों की
दोहराया करेगी हरदम, इस प्यार के अफ़साने को
जीवन के सफ़र...
Jeevan ke safar mein rahi, milte hain bichhad jaane ko
Aur de jaate hain yaadein, tanhai mein tadpaane ko
Jeevan ke safar...
Yeh roop ki daulat vaale, kab sunte hain dil ke naale
Taqdir na bas mein daale, inke kisi deewane ko
Jeevan ke safar...
Jo inki nazar se khele, dukh paaye musibat jhele
Firte hain yeh sab albele, dil leke mukar jaane ko
Jeevan ke safar...
Dil leke dagaa dete hain, ik rog lagaa dete hain
Hans hans ke jalaa dete hain, yeh husn ke parvane ko
Jeevan ke safar...
Ab sath na guzrenge hum, lekin yeh fiza raaton ki
Dohraya karegi hardam, is pyar ke afsane ko
Jeevan ke safar...