Khilte Hain Gul Yahaan
खिलते हैं गुल यहाँ, खिलके बिखरने को
मिलते हैं दिल यहाँ, मिलके बिछड़ने को
खिलते हैं गुल यहाँ ...
(कल रहे ना रहे, मौसम ये प्यार का 
कल रुके न रुके, डोला बहार का ) - (२)
चार पल मिले जो आज, प्यार में गुज़ार दे
खिलते हैं गुल यहाँ ...
झीलों के होंठों पर, मेघों का राग है
फूलों के सीने में, ठंडी ठंडी आग है
दिल के आइने में तू, ये समा उतार दे
खिलते हैं गुल यहाँ ...
प्यासा है दिल सनम, प्यासी ये रात है
होंठों मे दबी दबी, कोई मीठी बात है
इन लम्हों पे आज तू, हर खुशी निसार दे
खिलते हैं गुल यहाँ ...
Khilte hain gul yahaan, khilke bikharne ko
Milte hain dil yahaan, milke bichhadne ko
Khilte hain gul yahaan ...
(Kali rahe naa rahe, mausam yeh pyar ka 
Kali ruke na ruke, dola bahaar ka ) - (2)
Chaar pal mile jo aaj, pyar mein guzaar de
Khilte hain gul yahaan ...
Jheelon ke hothon par, meghon ka raag hai
Phoolon ke seene mein, thandi thandi aag hai
Dil ke aaine mein tu, yeh samaa utaar de
Khilte hain gul yahaan ...
Pyasa hai dil sanam, pyasi yeh raaton hai
Hothon mein dabi dabi, koi meethi baat hai
In lamhon pe aaj tu, har khushi nisaar de
Khilte hain gul yahaan ...