Kisi Baat Par Main Kisi Se Khafa Hoon
किसी बात पर मैं किसी से ख़फ़ा हूँ
मैं ज़िंदा हूँ पर ज़िंदगी से ख़फ़ा हूँ
हो ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ
किसी बात पर मैं किसी से ख़फ़ा हूँ
मुझे दोस्तों से शिक़ायत है शायद
मुझे दुश्मनों से मुहब्बत है शायद
मैं इस दोस्ती दुश्मनी से ख़फ़ा हूँ
ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ
किसी बात पर मैं किसी से ख़फ़ा हूँ
न जाने कहाँ कब किसे देखता हूँ
मगर मैं जहाँ जब जिसे देखता हूँ
समझता है वो मैं उसी से ख़फ़ा हूँ
ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ
किसी बात पर मैं किसी से ख़फ़ा हूँ
मैं जागा हुआ हूँ, मैं सोया हुआ हूँ
मैं दिल के अन्धेरों में खोया हुआ हूँ
मैं इस चाँद की चाँदनी से ख़फ़ा हूँ
ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ ख़फ़ा हूँ
किसी बात पर मैं किसी से ख़फ़ा हूँ
Kisi baat par main kisi se khafa hoon
Main jinda hoon par zindagi se khafa hoon
Ho khafa hoon khafa hoon khafa hoon
Kisi baat par main kisi se khafa hoon
Mujhe doston se shikayat hai shayad
Mujhe dushmano se mohabbat hai shayad
Main is dosti dushmani se khafa hoon
Khafa hoon khafa hoon khafa hoon
Kisi baat par main kisi se khafa hoon
Na jaane kahaan kab kise dekhta hoon
Magar main jahaan jab jis dekhta hoon
Samajhta hai voh main usi se khafa hoon
Khafa hoon khafa hoon khafa hoon
Kisi baat par main kisi se khafa hoon
Main jaaga hua hoon, main soya hua hoon
Main dil ke andheron mein khoya hua hoon
Main is chaand ki chandni se khafa hoon
Khafa hoon khafa hoon khafa hoon
Kisi baat par main kisi se khafa hoon