Kiska Rasta Dekhe
किस का रस्ता देखे, ऐ दिल, ऐ सौदाई
मीलों है खामोशी, बरसों है तनहाई
भूली दुनिया, कभी की, तुझे भी मुझे भी
फिर क्यों आँख भर आई
ओ, किस का रस्ता देखे ...
कोई भी साया नहीं राहों में
कोई भी आएगा न बाहों में
तेरे लिए मेरे लिए कोई नहीं रोने वाला हो
झूठा भी नाता नहीं चाहों में
तू ही क्यों डूबा रहे आहों में
कोई किसी संग मरे, ऐसा नहीं होने वाला
कोई नहीं जो यूँ ही जहाँ में, बाँटे पीर पराई
हो, किस का रस्ता देखे ...
तुझे क्या बीती हुई रातों से
मुझे क्या खोई हुई बातों से
सेज नहीं, चिता सही, जो भी मिले सोना होगा, हो
गई जो डोरी छूट हाथों से, ओ
लेना क्या छूटे हुए साथों से
खुशी जहाँ माँगी तूने, वहीं मुझे रोना होगा
न कोई तेरा, न कोई मेरा, फिर किसकी याद आई
ओ, किस का रस्ता देखे ...
Kis ka rasta dekhe, ae dil, ae saudai
Meelon hai khamoshi, barson hai tanhai
Bhooli duniya, kabhie ki, tujhe bhi mujhe bhi
Phir kyon aankh bhar aaee
O, kis ka rasta dekhe ...
Koi bhi saaya naheen raahon mein
Koi bhi aayega na bahon mein
Tere liye mere liye koi naheen rone vaala ho
Jhootha bhi nata naheen chaahon mein
Tu hee kyon dooba rahe aahon mein
Koi kisi sang mare, aisa naheen hone vaala
Koi naheen jo yoon hee jahaan mein, baante peer parai
Ho, kis ka rasta dekhe ...
Tujhe kya beeti hui raaton se
Mujhe kya khoyi hui baton se
Sej naheen, chitaa sahi, jo bhi mile sona hoga, ho
Gayi jo dori chhoot hathon se, o
Lena kya chhute huye sathon se
Khushi jahaan maangi tune, vaheen mujhe rona hoga
Na koi tera, na koi mera, phir kiski yaadon aaee
O, kis ka rasta dekhe ...