Kitne Sapne Kitne Arman
हा हा या हू
कितने सपने कितने अरमाँ लाया हूँ मैं
देखो ना -२
ऐ ऐ ऐ मेरा दिल भी इक महफ़िल है तुम भी कभी
आओ ना बैठो ना
तुमसे मिल के यूँ तो महक रहा हूँ
फिर भी मैं अकेला बहक रहा हूँ -२
मेरी अँधेरी हैं तन्हाइयाँ
कोई दिया तुम जला दो ना 
हे हे कितने सपने ...
हर तरफ़ जहाँ भी पलक थमीं है
प्यार की जहाँ में बहुत कमीं है -२
बेरंग हैं ये मेरे रात-दिन
तुम रंग कोई मिला दो ना
हे हे कितने सपने ...
कोई मुझ में देखे तो क्या नहीं है
हाँ वो ग़म में भीगी सदा नहीं है -२
मेरे तरानों में बढ़ जाए जो
तुम कोई धड़कन जगा दो ना
हे हे कितने सपने ...



		     
Ha ha ya hoo
Kitne sapne kitne armaan laya hoon main
Dekho naa -2
Ae ae ae mera dil bhi ik mehfil hai tum bhi kabhie
Aao naa baitho naa
Tumse mil ke yoon to mahek rahaa hoon
Phir bhi main akela bahek rahaa hoon -2
Meri andheri hain tanhaiyyan
Koi diya tum jalaa do naa 
He he kitne sapne ...
Har taraf jahaan bhi palak thameen hai
Pyar ki jahaan mein bahut kamee hai -2
Berang hain yeh mere raaton-din
Tum rang koi mila do naa
He he kitne sapne ...
Koi mujh mein dekhe to kya naheen hai
Haan voh gham mein bheegi sadaa naheen hai -2
Mere tarano mein badh jaaye jo
Tum koi dhadkan jagaa do naa
He he kitne sapne ...