Koi Humdum Na Raha
कोई हमदम ना रहा कोई सहारा न रहा
हम किसी के न रहे कोई हमारा न रहा
कोई हमदम ना रहा ...
शाम तन्हाई की है आएगी मंज़िल कैसे -२
जो मुझे राह दिखाए वही तारा न रहा
कोई हमदम ना रहा ...
ऐ नज़ारों ना हँसो मिल ना सकूँगा तुमसे -२
तुम मेरे हो ना सके मैं तुम्हारा ना रहा
कोई हमदम ना रहा ...
क्या बताऊँ मैं कहाँ यूँ ही चला जाता हूँ -२
जो मुझे फिर से बुलाए वो इशारा ना रहा
कोई हमदम ना रहा ...
Koi humdum naa rahaa koi sahaara na rahaa
Hum kisi ke na rahe koi hamaara na rahaa
Koi humdum naa rahaa ...
Shaam tanhai ki hai aayegi manzil kaise -2
Jo mujhe raahein dikhaye vahi tara na rahaa
Koi humdum naa rahaa ...
Ae nazaron naa hanso mil naa sakoonga tumse -2
Tum mere ho naa sake main tumhara naa rahaa
Koi humdum naa rahaa ...
Kya bataaun main kahaan yoon hee chala jata hoon -2
Jo mujhe phir se bulaye voh ishara naa rahaa
Koi humdum naa rahaa ...