Kya Yahi Pyar Hai
क: क्या यही प्यार है
ल: हाँ, यही प्यार है
क: हो, दिल तेरे बिन कहीं लगता नहीं
वक्त गुज़रता नहीं
ल: क्या यही प्यार है
क: हाँ, यही प्यार है
ल: हो, दिल तेरे बिन कहीं लगता नहीं
वक्त गुज़रता नहीं
क: पहले मैं समझा, कुछ और वजह इन बातों की
लेकिन अब जाना, कहाँ नींद गई मेरी रातों की
ल: जागती रहती हूँ मैं भी, चाँद निकलता नहीं
दिल तेरे बिन कहीं लगता नहीं
वक्त गुज़रता नहीं
क्या यही प्यार है...
ल: कैसे भूलूँगी, तू याद हमेशा आएगा
तेरे जाने से, जीना मुश्किल हो जाएगा
क: हो, अब कुछ भी हो दिल पे कोई, ज़ोर तो चलता नहीं
दिल तेरे बिन कहीं लगता नहीं
वक्त गुज़रता नहीं
क्या यही प्यार है...
क: जैसे फूलों के, मौसम में ये दिल खिलते हैं
प्रेमी, ऐसे ही, क्या पतझड़ में भी मिलते हैं
ल: रुत बदले, दुनिया बदले, प्यार बदलता नहीं
दिल तेरे बिन कहीं लगता नहीं
वक्त गुज़रता नहीं
क्या यही प्यार है...
Ka: Kya yahi pyar hai
La: Haan, yahi pyar hai
Ka: Ho, dil tere bin kaheen lagta naheen
Waqt guzarta naheen
La: Kya yahi pyar hai
Ka: Haan, yahi pyar hai
La: Ho, dil tere bin kaheen lagta naheen
Waqt guzarta naheen
Ka: Pahle main samjha, kuchh aur vajah in baton ki
Lekin ab jaana, kahaan neend gayi meri raaton ki
La: Jaagti rahti hoon main bhi, chaand nikalta naheen
Dil tere bin kaheen lagta naheen
Waqt guzarta naheen
Kya yahi pyar hai...
La: Kaise bhooloongi, tu yaadon hamesha aayega
Tere jaane se, jina mushkil ho jayega
Ka: Ho, ab kuchh bhi ho dil pe koi, zor to chalta naheen
Dil tere bin kaheen lagta naheen
Waqt guzarta naheen
Kya yahi pyar hai...
Ka: Jaise phoolon ke, mausam mein yeh dil khilte hain
Premi, aise hee, kya patjhad mein bhi milte hain
La: Rut badle, duniya badle, pyar badalta naheen
Dil tere bin kaheen lagta naheen
Waqt guzarta naheen
Kya yahi pyar hai...