Mere Naseeb Mein Ae Dost
खिज़ा के फूल पे आती कभी बहार नहीं 
मेरे नसीब में ऐ दोस्त, तेरा प्यार नहीं 
मेरे नसीब में ऐ दोस्त, तेरा प्यार नहीं ...
ना जाने प्यार में कब मैं, ज़ुबाँ से फिर जाऊं 
मैं बनके आँसू खुद अपनी, नज़र से गीर जाऊं
तेरी क़सम है मेरा कोई, ऐतबार नहीं 
मेरे नसीब में ...
मैं रोज़ लब पे नई एक, आह रखता हूँ 
मैं रोज़ एक नये ग़म की राह तकता हूँ 
किसी खुशी का मेरे दिल को, इन्तज़ार नहीं 
मेरे नसीब में ...
गरीब कैसे मोहब्बत, करे अमीरों से 
बिछड़ गये हैं कई रांझे, अपनी हीरों से 
किसी को अपने मुक़द्दर पे, इख्तियार नहीं 
मेरे नसीब में ...
खिज़ा के फूल पे आती कभी बहार नहीं 
मेरे नसीब में ऐ दोस्त, तेरा प्यार नहीं
Khiza ke phool pe aati kabhie bahaar naheen 
Mere naseeb mein ae dost, tera pyar naheen 
Mere naseeb mein ae dost, tera pyar naheen ...
Naa jaane pyar mein kab main, zubaan se phir jaun 
Main banke aansoo khud apni, nazar se geer jaun
Teri kasam hai mera koi, aitbaar naheen 
Mere naseeb mein ...
Main roz lab pe nayi ek, aah rakhta hoon 
Main roz ek naye gham ki raahein takta hoon 
Kisi khushi ka mere dil ko, intzaar naheen 
Mere naseeb mein ...
Gareeb kaise mohabbat, kare ameeron se 
Bichhad gaye hain kai ranjhe, apni heeron se 
Kisi ko apne mukaddar pe, ikhtiyaar naheen 
Mere naseeb mein ...
Khiza ke phool pe aati kabhie bahaar naheen 
Mere naseeb mein ae dost, tera pyar naheen