Oh Nigahein Mastana
ओ निगाहें मस्ताना
देख समाँ है सुहाना
तीर दिल पे चला के
आ, ज़रा झुक जाना
ओ निगाहें मस्ताना ...
कोई देखे नशीले आँखें मल मल के
दिल कैसे बने न दीवाना
शम्मा करे है इशारे जब जल जल के
कहो क्या करे परवाना
ओ हो
ओ निगाहें मस्ताना ...
बस्ती के दियों को बुझ जाने दे
लहरा के न रुक रुक जाना
चाहत का लबों पे नाम आने दे
यही प्यार का है ज़माना
ओ हो
ओ निगाहें मस्ताना ...
दामन न बचाना मेरे हाथों से
शरमा के गले से लग जाना
जले चाँद सितारे जिन बातों से
सुन जा वही अफ़साना
ओ हो
ओ निगाहें मस्ताना ...
O nigahein mastaana
Dekh samaa hai suhana
Teer dil pe chala ke
Aa, zara jhuk jaana
O nigahein mastaana ...
Koi dekhe nasheele aankhein mal mal ke
Dil kaise bane na deewana
Shamma kare hai ishaare jab jal jal ke
Kaho kya kare parvana
O ho
O nigahein mastaana ...
Basti ke diyon ko bujh jaane de
Lahra ke na ruk ruk jaana
Chahat ka labon pe naam aane de
Yahi pyar ka hai zamana
O ho
O nigahein mastaana ...
Daaman na bachaana mere hathon se
Sharma ke gale se lag jaana
Jale chaand sitare jin baton se
Sun jaa vahi afsaana
O ho
O nigahein mastaana ...