Panthi Hoon Main Us Path Ka
पंथी हूँ मैं उस पथ का
अंत नहीं जिसका
आस मेरी है जिसकी दिशा 
आधार मेरे मन का
संगी साथी मेरे
अंधियारे उजियारे
मुझको राह दिखायें
पलछिन के फुलझारे
पथिक मेरे पथ के सब तारे
और नीला आकाश
पंथी ...
इस पथ पर देखे कितने
सुख दुख के मेले
फूल चुने कभी खुशियों के
कभी काटों से खेले
जाने कब तक चलना है
मुझे इस जीवन के साथ
पंथी ...
Panthi hoon main us path ka
Ant naheen jiska
Aas meri hai jiski disha 
Aadhaar mere mann ka
Sangi sathi mere
Andhiyaare ujiyaare
Mujhko raahein dikhaayein
Palchhin ke phuljhaare
Pathik mere path ke sab taare
Aur neela akash
Panthi ...
Is path par dekhe kitne
Sukh dukh ke mele
Phool chune kabhie khushiyaan ke
Kabhie kaaton se khele
Jaane kab tak chalna hai
Mujhe is jeevan ke sath
Panthi ...