Parbat Ke Peechhe Chambe Da Gaon
परबत के पीछे, चम्बे दा गाँव
गाँव में दो प्रेमी रहते हैं
हम तो नहीं वो दीवाना जिनको
दीवाना लोग कहते हैं

मिलेंगे या बिछड़ेंगे, हाय राम क्या होगा
न जाने इन दोनों का अंजाम क्या होगा
मुफ़्त में हो जायेंगे बदनाम क्या होगा
घर से निकल के, रस्ते पे चल के
ताने हज़ार सहते हैं
गाँव में दो प्रेमी रहते हैं   ...
Parbat ke peechhe, chambe daa gaaon
Gaaon mein do premi rahte hain
Hum to naheen voh deewana jinko
Deewana log kahte hain

Milenge ya bichhdenge, hai raam kya hoga
Na jaane in dono ka anjaam kya hoga
Muft mein ho jayenge badnam kya hoga
Ghar se nikal ke, raste pe chal ke
Taane hazaar sahte hain
Gaaon mein do premi rahte hain   ...