Pyar Jab Na Diya
प्यार जब ना दिया ज़िंदगी ने कभी
फिर सितमगर कौन हुआ आदमी या ज़िंदगी
जुर्म की है सज़ा, ये तो जानें सभी
कोई मुजरिम क्यूँ बना ये नहीं मानें कभी
साथ जब ना दिया ज़िंदगी ने कभी
फिर सितमगर कौन हुआ आदमी या ज़िंदगी
दाग़ लगता रहे, फिर भी जीना पड़े
ज़िल्लतों रुसवाइयों का ज़हर भी पीना पड़े
रहम जब ना किया ज़िंदगी ने कभी
फिर सितमगर कौन हुआ आदमी या ज़िंदगी
वो तो कहता रहा, ज़िंदगी के लिये
एक मुहबात के सिवा कुछ न मुझको चाहिये
प्यार जब ना दिया ज़िंदगी ने कभी
फिर सितमगर कौन हुआ आदमी या ज़िंदगी
Pyar jab naa diya zindagi ne kabhie
Phir sitamgar kaun hua aadmi ya zindagi
Jurm ki hai sazaa, yeh to jaanein sabhi
Koi mujrim kyun banaa yeh naheen maanein kabhie
Sath jab naa diya zindagi ne kabhie
Phir sitamgar kaun hua aadmi ya zindagi
Daag lagta rahe, phir bhi jina padey
Jillaton rusvaaiyyon ka zaher bhi pina padey
Raham jab naa kiya zindagi ne kabhie
Phir sitamgar kaun hua aadmi ya zindagi
Voh to kahta rahaa, zindagi ke liye
Ek muhbaat ke siwa kuchh na mujhko chaahiye
Pyar jab naa diya zindagi ne kabhie
Phir sitamgar kaun hua aadmi ya zindagi