Raat Kali Ek Khwab Mein Aayi
रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई
सुबह को जब हम नींद से जागे, आँख तुम्ही से चार हुई
रात कली एक ख्वाब में आई, और गले का हार हुई
चाहे कहो इसे, मेरी मोहब्बत, चाहे हँसीं में उड़ा दो
ये क्या हुआ मुझे, मुझको खबर नहीं, हो सके, तुम ही बता दो
तुमने कदम जो, रखा ज़मीं पर, सीने में क्यों झंकार हुई
रात कली ...
आँखोंमें काजल, और लटोंमें, काली घटा का बसेरा
साँवली सूरत, मोहनी मूरत, सावन रुत का सवेरा
जबसे ये मुखड़ा, दिल मे खिला है, दुनिया मेरी गुलज़ार हुई
रात कली ...
यूँ तो हसीनों के, महजबीनों के, होते हैं रोज़ नज़ारे
पर उन्हें देख के, देखा है जब तुम्हें, तुम लगे और भी प्यारे
बाहों में ले लूँ, ऐसी तमन्ना, एक नहीं, कई बार हुई
रात कली ...
Raaton kali ek khwab mein aaee, aur gale ka haar hui
Subah ko jab hum neend se jaage, aankh tumhi se chaar hui
Raaton kali ek khwab mein aaee, aur gale ka haar hui
Chaahe kaho isey, meri mohabbat, chaahe hanseein mein udaa do
Yeh kya hua mujhe, mujhko khabar naheen, ho sake, tum hee bataa do
Tumne kadam jo, rakhaa zameen par, seene mein kyon jhankar hui
Raaton kali ...
आँखोंमें Kajal, aur लटोंमें, kaali ghata ka basera
Saanvli surat, mohani murat, saawan rut ka savera
Jabse yeh mukhda, dil mein khila hai, duniya meri gulzaar hui
Raaton kali ...
Yoon to haseeno ke, mehjabeeno ke, hote hain roz nazare
Par unhein dekh ke, dekha hai jab tumhein, tum lage aur bhi pyaare
Bahon mein le loon, aisi tamanna, ek naheen, kai bar hui
Raaton kali ...