Rote Huye Aate Hain Sab
रोते हुए आते हैं सब, हंसता हुआ जो जाएगा
वो मुक़द्दर का सिकन्दर जानेमन कहलाएगा
वो सिकन्दर क्या था ज़िसने ज़ुल्म से जीता ज़हां
प्यार से जीते दिलों को वो झुका दे आसमां
जो सितारों पर कहानी प्यार की लिख जाएगा
वो मुक़द्दर का सिकन्दर...
ज़िन्दगी तो बेवफ़ा है एक दिन ठुकराएगी
मौत महबूबा है अपने साथ लेकर जाएगी
मर के जीने की अदा जो दुनिया को सिखलाएगा
वो मुक़द्दर का सिकन्दर...
हमने माना ये ज़माना दर्द की जागीर है
हर कदम पे आँसुओं की इक नई ज़ंजीर है
आए दिन पर जो खुशी के गीत गाता जाएगा
वो मुक़द्दर का सिकन्दर...
रोते हुए आते हैं सब, हंसता हुआ जो जाएगा
वो मुक़द्दर का सिकन्दर जानेमन कहलाएगा
Rote huye aate hain sab, hansta hua jo jayega
Voh mukaddar ka sikandar jaaneman kahlaayega
Voh sikandar kya tha jisne zulm se jeeta jahaan
Pyar se jeete dilon ko voh jhuka de aasmaan
Jo sitaron par kahani pyar ki likh jayega
Voh mukaddar ka sikandar...
Jindagi to bewafa hai ek din thukrayegi
Maut mehbooba hai apne sath lekar jayegi
Mar ke jeene ki adaa jo duniya ko sikhlayega
Voh mukaddar ka sikandar...
Humne maana yeh zamana dard ki jaageer hai
Har kadam pe aansuon ki ik nayi janjeer hai
Aaye din par jo khushi ke geet gaata jayega
Voh mukaddar ka sikandar...
Rote huye aate hain sab, hansta hua jo jayega
Voh mukaddar ka sikandar jaaneman kahlaayega