Ruk Jana Naheen (Full Song)
रुक जाना नहीं तू कहीं हार के
काँटों पे चलके मिलेंगे साये बहार के
ओ राही, ओ राही...
सूरज देख रुक गया है तेरे आगे झुक गया है
जब कभी ऐसे कोई मस्ताना
निकले है अपनी धुन में दीवाना
शाम सुहानी बन जाते हैं दिन इंतज़ार के
ओ राही, ओ राही...
साथी न कारवां है ये तेरा इम्तिहां है
यूँ ही चला चल दिल के सहारे
करती है मंज़िल तुझको इशारे
देख कहीं कोई रोक नहीं ले तुझको पुकार के
ओ राही, ओ राही...
नैन आँसू जो लिये हैं ये राहों के दिये हैं
लोगों को उनका सब कुछ देके
तू तो चला था सपने ही लेके
कोई नहीं तो तेरे अपने हैं सपने ये प्यार के
ओ राही, ओ राही...
Ruk jaana naheen tu kaheen haar ke
Kaaton pe chalke milenge saaye bahaar ke
O rahi, o rahi...
Suraj dekh ruk gaya hai tere aage jhuk gaya hai
Jab kabhie aise koi mastaana
Nikle hai apni dhun mein deewana
Shaam suhani ban jaate hain din intzaar ke
O rahi, o rahi...
Sathi na kaarwan hai yeh tera imthihaan hai
Yoon hee chala chal dil ke sahare
Karti hai manzil tujhko ishaare
Dekh kaheen koi rok naheen le tujhko pukar ke
O rahi, o rahi...
Nain aansoo jo liye hain yeh raahon ke diye hain
Logon ko unka sab kuchh deke
Tu to chala tha sapne hee leke
Koi naheen to tere apne hain sapne yeh pyar ke
O rahi, o rahi...