Ulfat Mein Zamane Ki
slow: उल्फ़त में, ज़माने की ... 
हर रस्म को, ठुकराओ ...
उल्फ़त में ज़माने की, हर रस्म को ठुकराओ
फिर साथ मेरे आओ ओ 
उल्फ़त में ज़माने की ...
क़दमों को ना रोकेगी, ज़ंजीर रिवाज़ों की 
हम तोड़ के निकलेंगे, दीवार समाजों की 
दूरी पे सही मंज़िल, दूरी से, ना घबराओ 
उल्फ़त में ज़माने की ...
मैं अपनी बहारों को, रंगीन बन लूँगा 
सौ बार तुम्हें अपनी, पलकों पे बिठा लूँगा 
शबनम की तरह मेरे, गुलशन में, बिखर जाओ 
उल्फ़त में ज़माने की ...
आ जाओ के जीने के, हालात बदल डालें 
हम तुम ज़माने के, दिन रात बदल डालें 
तुम मेरी वफ़ाओं की, एक बार, क़सम खाओ 
उल्फ़त में ज़माने की ...
Slow: Ulfat mein, zamane ki ... 
Har rasm ko, thukrao ...
Ulfat mein zamane ki, har rasm ko thukrao
Phir sath mere aao o 
Ulfat mein zamane ki ...
Kadmon ko naa rokegi, janjeer rivaazon ki 
Hum tod ke niklenge, deewar samajo ki 
Doori pe sahi manzil, doori se, naa ghabrao 
Ulfat mein zamane ki ...
Main apni baharon ko, rangeen ban loonga 
Sau bar tumhein apni, palkon pe bitha loonga 
Shabnam ki tarah mere, gulshan mein, bikhar jaao 
Ulfat mein zamane ki ...
Aa jaao ke jeene ke, haalaat badal daalein 
Hum tum zamane ke, din raaton badal daalein 
Tum meri vafaaon ki, ek bar, kasam khaao 
Ulfat mein zamane ki ...